#RajyaSabha Question Number 401


सुरक्षा बलों द्वारा मानक परिचालन प्रक्रिया का उल्लंघन

डॉ० के० पी० रामालिंगम

क्या गृह मंत्री यह बताने की कृपा करेंगे कि :

  • (क) क्या यह सच है कि सुरक्षाकर्मियों ने नक्सल प्रभावित क्षेत्रों में अभियानों के लिए निर्धारित मानक परिचालन प्रक्रिया का उल्लंघन किया था;
  • (ख) यदि हां, तो तत्संबंधी ब्यौरा क्या है;
  • (ग) क्या यह भी सच है कि सरकार नक्सलवादियों से सीधी टक्कर लेने के लिए प्रतिबद्ध है और घात लगाकर हमला किए जाने की घटनाओं की पुनरावृत्ति को रोकने के लिए हर संभव कदम उठाये जाएंगे; और
  • (घ) यदि हां, तो तत्संबंधी ब्यौरा क्या है?

उत्तर : गृह मंत्रालय में राज्य मंत्री (श्री किरेन रिजिजू)

ANSWERED ON 2014.08.06

एक विवरण सदन के पटल पर रख दिया गया है।

(क)से(घ) विवरण: सरकार वामपंथी उग्रवाद की समस्या से प्रभावकारी तरीके से निपटने के लिए प्रतिबद्ध है। नक्सल-रोधी अभियानों के दौरान सुरक्षा बलों के लिए मानक प्रचालन प्रक्रिया अत्यन्त डायनामिक प्रकृति की होती है और इसे वामपंथी उग्रवादियों द्वारा अपनाई जा रही परिवर्तनशील युक्तियों के अनुसार निरंतर संशोधित किया जाता है। केन्द्रीय सशस्त्र पुलिस बलों द्वारा विभिन्न एस ओ पीज़ में दिए गए दिशा-निर्देश का कड़ाई से अनुपालन करने के लिए अपने अधिकारियों तथा जवानों को नियमित रूप में सुग्राही बनाया जाता है। एस ओ पीज़ के संभव उल्लंघन की घटनाओं की राज्य सरकार/के.स.पु.ब. द्वारा जांच की जाती है और तदनुसार, आवश्यक उपचारात्मक उपाय किए जाते हैं। भारत सरकार द्वारा भी नक्सल-रोधी अभियानों के विभिन्न पहलुओं पर मानक प्रचालन प्रक्रिया का अनुपालन करने के लिए संबंधित राज्य सरकार तथा के.स.पु.बल को परामर्शी पत्र जारी किए जाते हैं।


Question by Digvijaya Singh

माननीय सभापति जी, जीरम घाटी की घटना, जिसमें कांग्रेस पार्टी के कई वरिष्ठ नेताओं की हत्या हुई, उसके अंदर अमूमन तौर पर स्टैण्डर्ड ऑपरेटिंग सिस्टम यह होता है कि जब कोई वी आई पी मूवमेन्ट होता है , या जैसे उसमें कई लोग "ज़ेड " कैटेगरी के थे , जिस रास्ते से उनका कॉन्वॉय गुजरता है , उस रास्ते का क्लीनिंग-अप ऑपरेशन होता है, लेकिन इस घटना से यह संकेत मिलता है की इसमें स्टैण्डर्ड ऑपरेटिंग सिस्टम का उल्लघंन हुआ है। मैं माननीय गृह मंत्री जी से यह भी पूछना चाहता हूं कि जो नेशनल इन्वेस्टीगेशन एजेन्सीज उसकी जाँच कर रही है , उसकी जाँच कब पूरी होगी और कब तक इसमें दोषियों को पकड़ा जायेगा ?


GOVERNMENT OF INDIA

MINISTRY OF HOME AFFAIRS

RAJYA SABHA

QUESTION NO 401

ANSWERED ON 2014.08.06

Violation of SOP by security forces

DR. K.P.RAMALINGAM

Will the Minister of HOME AFFAIRS be pleased to satate :-

  • (a) whether it is a fact that security personnel had violated the Standard Operating Procedure (SOP) laid down for movements in Naxal hit areas;
  • (b) if so, the details thereof;
  • (c) whether it is a fact that Government is committed to take the Naxals head on and that every possible step will be taken to prevent the recurrence of such incidents of ambush; and
  • (d) if so, the details thereof?

Answer : MINISTER OF STATE IN THE MINISTRY OF HOME AFFAIRS - (SHRI KIREN RIJIJU)

(a) to (d): A Statement is laid on the Table of the House.

The Government is committed to effectively tackle the LWE problem. The Standard Operating Procedures for the security forces during the anti LWE operations are dynamic in nature and are revised regularly, based on the changing tactics adopted by the Left Wing Extremists. The Central Armed Police Forces (CAPFs) regularly sensitize their officers and jawans to scrupulously adhere to the guidelines contained in the various SOPs. Instances of possible violation of SOPs are inquired into by the State Governments / CAPFs and, accordingly, necessary remedial measures are taken. The Government of India also issues advisories from time to time to the State Governments concerned and the CAPFs to adhere to the Standard Operating Procedures (SOPs) on various aspects of anti LWE operations.