#RajyaSabha Question #2886


GOVERNMENT OF INDIA
MINISTRY OF HEAVY INDUSTRIES AND PUBLIC ENTERPRISES
RAJYA SABHA
QUESTION NO 2886
ANSWERED ON 13.03.2015

Revival plan for Scooters India, Lucknow

Will the Minister of HEAVY INDUSTRIES AND PUBLIC ENTERPRISES be pleased to satate :-

  • (a) the action taken for the revival of the Scooters India Ltd., Lucknow and the details of the amount sanctioned by Government;
  • (b) the details of the amount spent so far by Scooters India Ltd., Item-wise (Both Capital Fund and Working Capital); and
  • (c) whether the performance of the Company has improved after sanction of revival package by Government, the details of performance during 2013-14 and 2014-15?

Answer

MINISTER OF STATE IN THE MINISTRY OF HEAVY INDUSTRIES AND PUBLIC ENTERPRISES (SHRI G.M. SIDDESHWARA)

(a): Scooters India Ltd. (SIL) is a Board for Industrial and Financial Reconstruction (BIFR) referred sick company. A proposal inter-alia involving Rs. 201.96 crore of fund/non-fund based support was approved by the Government for revival of the company in January, 2013.

Sanction for release of Rs. 20 crore as interest-free plan loan for working capital and for Rs. 31.90 crore (out of Rs. 70.38 crore as approved by Government for infusion as equity for capital expenditure) have been issued. Sanction has also been issued for conversion of plan/non plan loan of Rs. 85.21 crore in to equity and waiver of interest of Rs. 26.37 crore.

(b): SIL has so far utilized the plan loan of Rs. 20 crore towards working capital and Rs. 4.02 crore of equity infusion towards capital expenditure.

(c): Yes, the company registered a profit of Rs. 13.60 crore in the year 2013-14 and Rs. 2.09 crore in the year 2014-15 (up to 30.09.2014).


Rajya Sabha Question Number 1821 about Law for net neutrality asked by Digvijaya Singh

भारत सरकार
संचार एवं सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय
दूरसंचार विभाग
राज्यं सभा
अतारांकित प्रश्ना संख्याी 2886
(13 मार्च, 2015)

स्कूटर इंडिया, लखनऊ के पुनरुद्धार के ललए योजना

क्या भारी उद्योग और लोक उद्यम मंत्री यह बताने की कृपा करेंगे :

  • स्कूटर इंडिया लललमटेि, लखनऊ के पुनरुद्धार के ललए क्या काररिाई की गई है; सरकार द्िारा स्िीकृत धनरालि का ब्यौरा क्या है;
  • स्कूटर इंडिया लललमटेि द्िारा अब तक मि-िार (पूंिीगत तनधध और कायिर ील पूंिी िोनों) व्यय की गई धनरालि का ब्यौरा क्या है; और
  • क्या सरकार द्िारा पुनरुद्धार पैकेि दिए िाने के बाि कंपनी के काय-रतनष्पािन में सुधार हुआ है और 2013-14 और 2014-15 के िौरान कं पनी के कायर तनष्पािन का ब्यौरा क्या है?

उत्तर

सभारी उद्योग और लोक उद्यम राज्य मंत्री (श्री जी. एम. ल द्देश्िर)

स्कूटसर इंडिया लललमटेि औद्योधगक और वित्तीय पुनतनरमारण बोिर (बीआईएफआर) को संिलभतर एक रूग्ण कंपनी है। कंपनी के पुनरुद्धार के ललए सरकार द्िारा, अन्य बातों के साथ-साथ, ₹201.96 करोड़ की तनधध/गैर तनधध आधाररत सहायता अनुमोदित की गई थी।

कायिर ील पूंिी के ललए ब्याि मुक्त योिना ऋण के रूप में ₹20 करोड़ और ₹31.90 करोड़ (पूंिीव्यय के ललए इजक्िटी के रूप में तनिेि करने के ललए सरकार द्िारा अनुमोदित ₹70.38 करोड़) िारी करने की मंिूरी िे िी गई है। ₹85.21 करोड़ के योिना/गैर-योिना ऋण को इजक्िटी में पररिततरत करने और ₹26.37 करोड़ का ब्याि माफ करने की मंिूरी भी िे िी गई है।

स्कूटसर इंडिया लललमटेि ने अब तक ₹20 करोड़ के योिना ऋण का उपयोग कायरिील पूंिी के ललए और ₹4.02 करोड़ के इजक्िटी तनिेि का उपयोग पूंिी व्यय के ललए ककया है।

िी, हां। कं पनी ने िर्र 2013-14 में ₹13.60 करोड़ का लाभ और िर्र 2014-15 में (30.09.2014 तक) ₹2.09 करोड़ का लाभ ििर ककया है।